व्यापार

अगले वित्त वर्ष में भारतीय GDP के 7% से नीचे रहने की संभावना बेहद अधिक: नोमुरा

Publish Date:Thu, 07 Mar 2019 08:00 AM (IST) नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। अगले वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 7 फीसद से नीचे रह सकती है। जापानी ब्रोकरेज एजेंसी नोमुरा की रिपोर्ट के मुताबिक कच्चे तेल की गिरती कीमतों और विस्तारवादी बजट के बावजूद 2019-20 में भारत की जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) के […]

व्यापार

एस्सार स्टील के छोटे कर्जदाताओं ने आर्सेलर मित्तल से की भुगतान की अपील

Publish Date:Wed, 06 Mar 2019 07:14 PM (IST) नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क/एजेंसी)। एस्सार स्टील को एक करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज देने वाले कर्जदाताओं के समूह ने आर्सेलर मित्तल से भुगतान की अपील की है। आर्सेलर मित्तल कर्ज के बोझ से दबी कंपनी एस्सार स्टील के अधिग्रहण की प्रक्रिया को पूरी कर रही है। […]

व्यापार

वोडाफोन-आइडिया के तिमाही नतीजों में हुआ 5,005 करोड़ का घाटा

वोडाफोन पीएलसी ने पिछले साल अगस्त महीने में ही आइडिया सेल्युलर के साथ मर्जर कर लिया था। कंपनी की ओर से जारी किए गए बयान के मुताबिक 31 दिसंबर को खत्म हुए तिमाही के लिए कंपनी का कुल घाटा (टैक्स के बाद) 5,005 (699.49 मिलियन डॉलर) करोड़ रुपये रहा है। रिफाइनिटिव इकोन के डेटा के […]

व्यापार

RBI ने घटाया रेपो रेट, 2019-20 में 7.4 फीसदी रहेगी जीडीपी

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास की अध्यक्षता में तीन तक चली मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी की बैठक के बाद रेपो रेट में 0.25 बेसिस प्वाइंट की कटौती कर दी है।अब रेपो रेट 6.25 फीसदी और रिवर्स रेपो रेट 6 फीसदी हो गया है। आरबीआई ने इससे पहले अगस्त 2017 में रेपो रेट में कटौती की थी, इसके […]

व्यापार

बजट 2019: 5 लाख तक की इनकम पर टैक्‍स में छूट, बजट से जुड़ी सभी बातें

नई दिल्ली. वित्त मंत्री पीयूष् गोयल ने आज अंतरिम बजट 2019 पेश किया। मोदी सरकार के छठे बजट में पीयूष गोयल ने 2019- 20 का अंतरिम बजट पेश करते हुए कई लोक लुभावन घोषणाएं की हैं। इस बजट में हर वर्ग को संतुष्ट करने की कोशिश की गई। बजट प्रस्तावों में किसानों, मजदूरों और मध्यम […]

व्यापार

2015 में शीर्ष 10 विश्व के सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था देशों की सूची

जीडीपी किसी भी देश की आर्थिक सेहत को मापने का सबसे ज़रूरी पैमाना है. जीडीपी किसी ख़ास अवधि के दौरान वस्तु और सेवाओं के उत्पादन की कुल क़ीमत है. जीडीपी को दो तरह से पेश किया जाता है क्योंकि उत्पादन की लागत महंगाई के साथ घटती-बढ़ती रहती है, यह पैमाना है कॉन्स्टैंट प्राइस |

व्यापार

2014 में शीर्ष 10 विश्व के सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था देशों की सूची

जीडीपी किसी भी देश की आर्थिक सेहत को मापने का सबसे ज़रूरी पैमाना है. जीडीपी किसी ख़ास अवधि के दौरान वस्तु और सेवाओं के उत्पादन की कुल क़ीमत है. जीडीपी को दो तरह से पेश किया जाता है क्योंकि उत्पादन की लागत महंगाई के साथ घटती-बढ़ती रहती है, यह पैमाना है कॉन्स्टैंट प्राइस |

व्यापार

2013 में शीर्ष 10 विश्व के सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था देशों की सूची

जीडीपी किसी भी देश की आर्थिक सेहत को मापने का सबसे ज़रूरी पैमाना है. जीडीपी किसी ख़ास अवधि के दौरान वस्तु और सेवाओं के उत्पादन की कुल क़ीमत है. जीडीपी को दो तरह से पेश किया जाता है क्योंकि उत्पादन की लागत महंगाई के साथ घटती-बढ़ती रहती है, यह पैमाना है कॉन्स्टैंट प्राइस |

व्यापार

2012 में शीर्ष 10 विश्व के सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था देशों की सूची

जीडीपी किसी भी देश की आर्थिक सेहत को मापने का सबसे ज़रूरी पैमाना है. जीडीपी किसी ख़ास अवधि के दौरान वस्तु और सेवाओं के उत्पादन की कुल क़ीमत है. जीडीपी को दो तरह से पेश किया जाता है क्योंकि उत्पादन की लागत महंगाई के साथ घटती-बढ़ती रहती है, यह पैमाना है कॉन्स्टैंट प्राइस |