देश

पाक पीएम इमरान ने मोदी को फोन पर बधाई दी, कहा- पड़ोसियों से अच्छे रिश्ते प्राथमिकता

  • मोदी ने कहा- शांति के लिए आतंक और हिंसा मुक्त वातावरण बनाना जरूरी
  • पाक विदेश मंत्री ने कहा- हम भारत की नई सरकार के साथ बातचीत के लिए तैयार

इस्लामाबाद/नई दिल्ली. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने नरेंद्र मोदी को लोकसभा चुनाव में जीत मिलने पर फोन पर बधाई दी। इमरान खान ने कहा कि पड़ोसियों के साथ अच्छे रिश्ते हमारी प्राथमिकता है। विदेश मंत्रालय के मुताबिक, मोदी ने कहा कि हम पाक प्रधानमंत्री के साथ मिलकर गरीबी से लड़ने को तैयार हैं। लेकिन, शांति और विकास के लिए पहले आतंक और हिंसा मुक्त वातावरण तैयार करना जरूरी है।

शांति स्थापित करने के लिए बातचीत जरूरी- कुरैशी

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा है कि इस्लामाबाद भारत की नई सरकार के साथ बातचीत के लिए तैयार है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शनिवार को आयोजित हुई इफ्तार पार्टी में कुरैशी ने मंत्रियों से कहा कि दोनों देशों को शांति स्थापित करने के लिए बातचीत पर जोर देना चाहिए। इसी तरह से समस्याओं को हल किया जा सकता है।

कुरैशी ने कहा पाकिस्तान के लिए इस क्षेत्र में शांति सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है। अफगानिस्तान के मामले पर मंत्री ने कहा- हम यहां भी शांति चाहते हैं। बातचीत के जरिए ही इसे प्रशस्त किया जा सकता है। पाकिस्तान लगातार अपनी ओर से अफगानिस्तान में ऐसी भूमिका निभा रहा है।

सुषमा मिठाई लाईं थीं, ताकि मीठी बातें हो सकें: कुरैशी
भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज 21-22 मई को किर्गिस्तान में आयोजित शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (एससीओ) में हिस्सा लेने पहुंची थीं। पाक मीडिया के मुताबिक समिट में पाक विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी और सुषमा स्वराज के बीच अनाधिकारिक बैठक हुई। कुरैशी ने कहा, “मैं सुषमा जी से मिला। उन्हें शिकायत थी कि हम कभी-कभी काफी तल्ख लहजे में बात करते हैं। वह मिठाई लाईं, ताकि हम मीठी बातें कर सकें।”

बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद तनाव बढ़ा

फरवरी में हुए पुलवामा हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान में बालाकोट स्थित आतंकी ठिकानों पर एयरस्ट्राइक की थी। इसके बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया था। पाक वायुसेना ने भारतीय सीमा में घुसपैठ की कोशिश की, जिसे भारतीय वायुसेना ने जवाबी कार्रवाई में नाकाम किया। इस घटनाक्रम में विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान पाक की गिरफ्त में आ गए थे, जिन्हें बाद में भारत सरकार ने वापस छुड़वाया था।

Source: bhaskar.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *