देश

8 नए मंत्री जदयू से, सुशील मोदी बोले- अपने कोटे का एक पद बाद में भरेंगे

  • नीतीश कुमार जुलाई 2017 में महागठबंधन छोड़कर एनडीए में शामिल हुए थे, इसके बाद यह दूसरा कैबिनेट विस्तार
  • नए मंत्रियों में 3 एमएलसी और 5 विधायक, नीतीश सरकार में अभी भाजपा के 13 मंत्री

पटना. बिहार में एनडीए के साथ गठबंधन के 23 महीने बाद रविवार को नीतीश कुमार के मंत्रिमंडल का दूसरा विस्तार हुआ। मंत्री परिषद में शामिल होने वाले सभी नेता जदयू के हैं। इस बार कैबिनेट विस्तार में भाजपा विधायकों को जगह नहीं मिली, जबकि उसके कोटे का एक पद खाली है। उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कहा है कि मुख्यमंत्री ने खाली मंत्री पद भरने के लिए भाजपा को ऑफर दिया था, लेकिन हम इस पर बाद में फैसला लेंगे। वहीं, नीतीश कुमार ने कहा कि भाजपा से कोई मतभेद नहीं, एनडीए में सब कुछ ठीक है।

नीतीश कैबिनेट का पहला विस्तार राजद गठबंधन के दौरान हुआ था। दूसरा विस्तार जुलाई 2017 में एनडीए में शामिल होने के बाद हुआ। ये तीसरा विस्तार है। शपथ लेने वाले सभी मंत्रियों को मंत्रालय भी आवंटित कर दिए गए हैं।

इन नेताओं को कैबिनेट में मिली जगह
1. अशोक चौधरी, भवन निर्माण विभाग

बिहार कांग्रेस के अध्यक्ष रह चुके हैं। 25 साल कांग्रेस में रहने के बाद 2018 में पार्टी छोड़ जदयू में शामिल हो गए थे। जदयू विधान परिषद के सदस्य हैं और नीतीश कैबिनेट में शिक्षा मंत्री रह चुके हैं।

2. रामसेवक सिंह, समाज कल्याण विभाग
हथुआ विधानसभा सीट से जदयू विधायक हैं।

3. नरेंद्र नारायण यादव, विधि विभाग
मधेपुरा के आलमनगर विधानसभा सीट से विधायक हैं। नीतीश कैबिनेट में पहले भी मंत्री रह चुके हैं।

4. संजय झा, जल संसाधन विभाग
जदयू के राष्ट्रीय महासचिव हैं। हाल ही एमएलसी चुने गए।

5. श्याम रजक, उद्योग विभाग
फुलवारीशरीफ से जदयू विधायक हैं। 1974 के जेपी आंदोलन से राजनीति में सक्रिय।

6. बीमा भारती, गन्ना विकास विभाग
पूर्णिया के रुपौली से जदयू की विधायक हैं। नीतीश के पहले कार्यकाल में भी मंत्री रह चुकी हैं।

7. नीरज कुमार, सूचना एवं जनसंपर्क विभाग
2008 से जदयू की तरफ से विधानपरिषद पहुंचे थे। 2009 से जदयू के राज्य स्तरीय प्रवक्ता हैं। पहली बार बिहार मंत्रिमंडल में जगह मिली है।

8. लक्ष्मेश्वर राय, आपदा प्रबंधन विभाग
मधुबनी के लौकहा से जदयू विधायक हैं। छात्र आंदोलन में कई बार जेल जा चुके हैं।

अभी भाजपा के कोटे से एक पद खाली 
भाजपा ने बिहार मंत्रिमंडल विस्तार की जानकारी पार्टी आलाकमान को दे दी है। अभी भाजपा कोटे से मंत्री का पद खाली है। भाजपा से नीतीश सरकार में 13 मंत्री हैं। लिहाजा भाजपा को कोई खास फर्क नहीं पड़ने वाला है।

नीतीश के 3 मंत्री सांसद बने
कुछ दिनों के भीतर जदयू कोटे वाले मंत्रियों के तीन और लोजपा के कोटे से एक मंत्री का पद खाली हुआ। नीतीश के तीन मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह, दिनेश चंद्र यादव और पशुपति कुमार पारस सांसद चुने गए थे। मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में जेल जाने के बाद मंजू वर्मा को भी कुछ माह पहले ही मंत्री पद से हटाया गया था।

Source: bhaskar.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *