देश

ढाई साल की बच्ची की हत्या: इंटरनेट बंद, संवेदनशील इलाकों में अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात

  • अलीगढ़ के टप्पल में 10 हजार रु के लिए 30 मई को ढाई साल की बच्ची को अगवा कर उसकी हत्या कर दी गई थी
  • राज्य में महिलाओं के साथ बढ़ती हुईं अपराधिक घटनाओं को देखते हुए योगी ने पुलिस अफसरों के साथ बैठक की

अलीगढ़/आगरा.  अलीगढ़ के टप्पल में 2 साल की बच्ची की हत्या के बाद तनाव को कम करने के लिए बड़ी संख्या में पुलिसबल तैनात किया गया। जिला प्रशासन ने इलाके में इंटरनेट सेवा पर रोेक लगा दी है। टप्पल में सीओ पंकज श्रीवास्तव को हटाकर संजीव दीक्षित को तैनात किया गया है। उधर, राज्य में महिलाओं के साथ बढ़ती हुईं घटनाओं को देखते हुए उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह, मुख्य सचिव और सीनियर पुलिस अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को महिला सुरक्षा को लेकर कड़े कदम उठाने के निर्देश दिए।

जिला अधिकारी चंद्रभूषण सिंह ने सोमवार रात तक इंटरनेट पर रोक लगाने के आदेश दिए हैं। प्रशासन के मुताबिक, घटना को लेकर उड़ रहीं अफवाहों को रोकने के लिए यह कदम उठाया गया। सोशल मीडिया पर अफवाहों और वायरल हो रहे गलत वीडियो से सांप्रदायिकता फैल सकती है।

सोशल मीडिया पर मॉनिटरिंग कर रही पुलिस

जिला अधिकारी ने कहा, पुलिस इस तरह की पोस्टों की मॉनिटरिंग कर रही है और इन असामाजिक तत्वों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है। बच्ची की हत्या के विरोध और तुरंत इंसाफ दिलाने की मांग को लेकर हो रहे प्रदर्शनों को देखते हुए स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए पुलिस को रविवार को पूरे दिन संघर्ष करना पड़ा।

लापरवाही के आरोप के बाद सीओ हटाए गए
अलीगढ़ के एसएसपी आकाश कुलहरी ने बताया कि खैर के सीओ पंकज श्रीवास्तव को हटाकर नए सीओ संजीव कुमार दीक्षित की तैनाती की गई। पंकज श्रीवास्तव पर 4 दिन से लापता बच्ची के मामले में कोई कार्रवाई न करने का आरोप था। पंकज को सीओ अतरौली बनाया है। 

संवेदनशील इलाकों में बढ़ेगी पेट्रोलिंग

योगी के साथ बैठक के बाद डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि राज्य में हुए दुष्कर्म के मामलों में  सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। सभी मामलों में आरोपी जान पहचान वाला ही था। स्थानीय पुलिस अपना काम कर रही है। जो भी दोषी पुलिसवाले थे, उनपर कार्रवाई की गई है। उन्होंने कहा कि संवेदनशील ग्रामीण इलाकों में पेट्रोलिंग बढ़ाई जाएगी। आने वाले समय में पुलिस हेल्पलाइन के सभी विंडो एक साथ लाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि पुलिस को बाइकर्स पर विशेष निगाह रखने के भी निर्देश दिए गए हैं। एंटी रोमियो स्क्वाड को और ज्यादा सक्रिय किया जाएगा।

एडीजी अजय आनंद पीड़िता के घर पहुंचे
एडीजी अजय आनन्द सोमवार को टप्पल में पीड़िता के घर पहुंचे और परिजनों से बात की। रविवार को मुख्यमंत्री कार्यालय से मृतक बच्ची के पिता को फोन गया था। उन्हें लखनऊ बुलाया गया था। लेकिन पिता ने साफ इंकार कर दिया था कि वे कहीं नहीं जाएंगे। योगी उनसे मिलने आएं।

10 हजार रुपए के विवाद में हुई हत्या

टप्पल की रहने वाली बच्ची 30 मई को घर के बाहर से खेलते समय लापता हुई थी। परिजनों ने गुमशुदगी का केस दर्ज कराया, लेकिन पुलिस ने सक्रियता नहीं दिखाई। तीन दिन बाद दो जून (रविवार) को उसका शव कूड़े के ढेर में क्षत-विक्षत हालत में मिला था। पुलिस ने इस प्रकरण में अब चार आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। इनमें मुख्य आरोपित जाहिद, असलम, जाहिद की पत्नी व उसका भाई मेहंदी शामिल है। आरोपी जाहिद और असलम पर पॉक्सो एक्ट और राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) की कार्रवाई की गई है। असलम आदतन अपराधी है। उस पर अपनी बेटी से दुष्कर्म के आरोप समेत पांच केस दर्ज हैं। जाहिद का बच्ची के दादा से 10 हजार रुपए के लेनदेन को लेकर विवाद था। इस मामले में पांच पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया गया।

Source: bhaskar.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *