देश

कोहली ने कहा- धवन अभी खेलना चाहते हैं, यही माइंडसेट चोट से उबरने में उनकी मदद करेगा

  • शिखर धवन के अंगूठे में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चोट लगी थी
  • फील्डिंग कोच आर श्रीधर ने कहा- बैटिंग के साथ धवन की फील्डिंग की जांच भी होगी

लंदन. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में चोटिल होने के बावजूद भारतीय टीम के ओपनर शिखर धवन को अब तक देश वापस नहीं भेजा गया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, फ्रैक्चर अंगूठे में प्लास्टर लगने के करीब 10-12 दिन बाद ही उनकी जांच होगी। हालांकि, कप्तान विराट कोहली को उम्मीद है कि धवन जल्द से जल्द टीम से जुड़ेंगे। कोहली ने शुक्रवार को कहा कि धवन का माइंडसेट मैदान में लौटने में उनकी मदद करेगा।  

कोहली ने कहा, “धवन को करीब दो हफ्ते तक प्लास्टर लगा रहेगा। इसके बाद उनकी जांच होगी। हम उम्मीद करते हैं कि उनकी चोट जल्दी ठीक होगी और वे शायद लीग मैचों के दौरान या सेमीफाइनल में टीम में लौटेंगे।हम उन्हें इंग्लैंड में ही रोकना चाहते हैं क्योंकि वे खुद टीम के लिए खेलना चाहते हैं। इस तरह का माइंडसेट चोट से उबरने में उनकी मदद करेगा।” हालांकि टीम में वापसी के बाद उनकी बैटिंग ही नहीं फील्डिंग पर भी टीम मैनेजमेंट की नजर रहेगी।

फील्डिंग पर भी देखा जाएगा चोट का प्रभाव

टीम इंडिया के फील्डिंग कोच आर श्रीधर का कहना है कि जांच में यह भी देखा जाएगा कि उनका अंगूठा ठीक से मुड़ने के बाद वजन उठा पा रहा है या नहीं, क्योंकि वैसे तो बायां हाथ उनका प्रभावी हाथ नहीं है। लेकिन स्लिप फील्डर होने की वजह से उनके अंगूठे की स्थिति अहमियत रखेगी। इस बात की भी जांच की जाएगी।

चोटिल होने के बाद धवन ने किया था ट्वीट
चोटिल होने के बाद धवन ने ट्विटर पर एक पोस्ट डालकर अपने जज्बे को जाहिर किया। उन्होंने लिखा था- कभी महक की तरह हम गुलों से उड़ते हैं। कभी धुएं की तरह हम पर्वतों से उड़ते हैं। ये कैंचियां हमें उड़ने से खाक रोकेंगी, हम परों से नहीं हौसलों से उड़ते हैं।

धवन के बाहर होने पर ऋषभ पंत हो सकते हैं उनका रिप्लेसमेंट
धवन को चोटिल होने के बावजूद वापस भारत नहीं भेजा गया है। ऋषभ पंत को धवन के कवर के तौर पर इंग्लैंड भेजा जाएगा। पंत को तैयार रहने के निर्देश दिए गए हैं। लेकिन पहले से ही विकेटकीपर के तौर पर कार्तिक की मौजूदगी में पंत को मौका मिलना मुश्किल माना जा रहा है।

Source: bhaskar.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *