देश

राज ठाकरे पूछताछ के लिए ईडी दफ्तर पहुंचे, प्रदर्शन कर रहे मनसे के 200 कार्यकर्ता हिरासत में

मुंबई.महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे गुरुवार कोपूछताछ के लिएप्रवर्तन निदेशालय के दफ्तर पहुंचे। ईडी ने कोहिनूर सीटीएनएल में आईएल एंड एफएस ग्रुप के कर्ज और निवेश की जांच के सिलसिले में उन्हें समन भेजा था। ईडी की कार्रवाई के खिलाफ मनसे कार्यकर्ता मुंबई और ठाणे में प्रदर्शन कर रहे हैं। मुंबई में स्थित ईडी ऑफिस के बाहर प्रदर्शन करने पहुंचे मनसे नेता संदीप देशपांडे और ठाणे में 200 कार्यकर्ता हिरासत में लिए गए। मुंबई के तीन थाना क्षेत्रों- एमआरए मार्ग, दादर और मरीन ड्राइव में धारा 144 लागू है।

ईडी की पूछताछ से पहले राज ठाकरे ने कार्यकर्ताओं से शांति बनाए रखने की अपील की है। बुधवार को शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे उनके समर्थन में उतर आए। उद्धव ने कह कि मुझे नहीं लगता कि पूछताछ में कुछ सामने आएगा। इसलिए हमें एक से दो दिन रुकना चाहिए। दूसरी ओर, मनसे ने ईडी की कार्रवाई कोबदले की राजनीति बताया।

कोहिनूर सीटीएनएल में पार्टनर थे राज ठाकरे

आईएल एंड एफएस ने कोहिनूर सीटीएनएल को लोन दिया था और इक्विटी इन्वेस्टमेंट भी किया था। सीटीएनएल ने लोन पेमेंट में डिफॉल्ट कर दिया। सीटीएनएल में राज ठाकरे भी पार्टनर थे। हालांकि, बाद में वे अपने शेयर बेचकर बाहर हो गए।मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक राज ने उसी साल शेयर बेचे, जब आईएलएंडएफएस ने घाटे मेंसीटीएनएल के शेयर बेचे थे।

पूर्व मुख्यमंत्री जोशी काबेटा कोहिनूर ग्रुप का प्रमोटर

  • महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और शिवसेना नेता मनोहर जोशी के बेटे अनमेश को भी ईडी ने समन भेजा है। अनमेश का कोहिनूर ग्रुप कोहिनूर सीटीएनएल का पूर्व प्रमोटर है। कोहिनूर लोन डिफॉल्टर है। ठाकरे और अनमेश ने कंसोर्शियम के जरिए कोहिनूर कंपनी बनाई थी। बाद में ठाकरे ने अपने शेयर बेच दिए थे।
  • इन्फ्रा, फाइनेंस और ट्रांसपोर्ट सेक्टर से जुड़ी नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी आईएल एंड एफएस का कर्ज और नकदी संकट पिछले साल सितंबर में सामने आया था। कंपनी पर 91,000 करोड़ रुपए का कर्ज है। इसके चलते कंपनी डूबने की नौबत आ गई थी और सरकार को दखल देना पड़ा था।
  • आईएल एंड एफएस मामले में ईडी मनी लॉन्ड्रिंग की जांच कर रहा है। एजेंसी ने पिछले हफ्ते मुंबई की विशेष अदालत में पहली चार्जशीट दाखिल की थी। चार्जशीट के मुताबिक आईएल एंड एफएस के अधिकारियों ने कई निजी कंपनियों को डिफॉल्ट के बावजूद कर्ज दिए थे।

मनसे कार्यकर्ता ने की आत्महत्या
ठाणे में रहने वाले मनसे के एक कार्यकर्ता, प्रवीण चौगुले (27) ने मंगलवार रात आत्महत्या कर ली। पार्टी का आरोप है कि प्रवीण पार्टी प्रमुख राज ठाकरे को मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में ईडी के नोटिस मिलने के बाद से तनाव में था। हालांकि, पुलिस का कहना है कि प्रवीण शराब का लती थी।

Source: bhaskar.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *