अंतरराष्ट्रीय

कैंसर से लड़ रहे 5 साल के बच्चे को स्टेम सेल डोनर चाहिए था, 10000 लोग आगे आए

विज्ञापन

Dainik Bhaskar

Mar 30, 2019, 11:04 PM IST

  • comment

  • डॉक्टर्स ने परिवार से कहा था कि ऑस्कर को स्टेम सेल डोनर नहीं मिला तो उसका बचना मुश्किल होगा
  • माता-पिता की अपील के बाद स्टेम सेल डोनेट करने के लिए लोग आगे आए, घंटों में लाइन में खड़े रहे

बर्मिंघम (इंग्लैंड). ब्लड कैंसर की बीमारी से जूझ रहे पांच साल के बच्चे को इलाज के लिए स्टेम सेल डोनर की जरूरत थी। शुरुआत में डोनर और उसके स्टेम सेल मैच नहीं हो रहे थे। अभिभावक ने सोशल मीडिया पर लोगों से बच्चे के इलाज में मदद करने की अपील की। इसके बाद 10000 हजार से ज्यादा लोग सामने आए। इन सभी की जांच के बाद सिर्फ तीन डोनर से उसके स्टेम सेल मैच हो पाए।

aa

 

बीमारी का पिछले साल पता चला था

  1. 5 साल के ऑस्कर सक्सेल्बी ली को दुर्लभ कैंसर एक्यूट लिम्फोब्लास्टिक ल्यूकेमिया है। यह बीमारी बोनमारो द्वारा सामान्य ब्लड सेल प्रोड्यूस नहीं करने की वजह से होती है। पिता जेमी ली (26) और मां ओलिवा सेक्सेल्वी (23) ने बताया कि ‌ऑस्कर की इस बीमारी के बारे में पिछले साल दिसंबर में पता चला था।

  2. माता-पिता ने लोगों को थैंक्स कहा 

    तीन डोनर के स्टेम सेल मैच होने पर ऑस्कर के माता-पिता ने लोगों को सहयोग के लिए शुक्रिया अदा किया। उन्होंने कहा कि आपके समर्थन के बिना यह संभव नहीं था। हम आपके बिना ऐसा कभी नहीं कर सकते थे। जब हमें इस बीमारी के बारे में पता चला था तब डॉक्टर ने कहा था कि स्टेम सेल डोनर नहीं मिला तो वह तीन महीने से ज्यादा जिंदा नहीं रह पाएगा।

    aa

     

  3. लोगों ने बारिश की भी परवाह नहीं की

    लोगों ने रजिस्ट्रेशन और टेस्ट के लिए बारिश की भी परवाह नहीं की। वे स्टेम सेल मैच के लिए घंटों बर्मिंघम चिल्ड्रन्स हॉस्पिटल के सामने लाइन में खड़े रहे। बारिश के दौरान लोगों को छतरी लगाकर अपनी बारी का इंतजार करते देखा गया।

Astrology

Recommended

`; $(‘ul.reco_data’).append(vli); }); } $.each(recstory,function(k,story){ if(relCount > 5){ return false; } var href=story.url; var shareUrl = href.split(‘?’)[0]; if(cr_Story !=story.story_id && rel_Story.indexOf(story.story_id) == -1 && rcoStoryArr.indexOf(story.story_id) == -1){ rcoStoryArr.push(story.story_id); var image = story.image.replace(“/500×250/”,”/190×150/”); image = image.replace(“300×225″,”190×150”); var vicon = story.flag_v == 1 ? ‘‘ : ”; var slug =”; if(story.template_type != ‘normal’ && story.template_type != ‘photo’ && story.iitl_title != ”){ slug = ‘‘+story.iitl_title+’ / ‘; } if(!$(‘#nextStory’).html() && $devicIssue==”mobile” && i == 0){ $(‘#nextStory’).html(`

Next Story

${slug+story.title}

`); }else{ li +=`

  • ${story.title}${vicon}

  • `; } relCount++; i++; } }); $(‘ul.reco_data’).append(li); var mysldnn = $(‘.reco_data’).bxSlider({minSlides:1,hideControlOnEnd:true ,touchEnabled:true,maxSlides:4,slideWidth:183,moveSlides:1,slideMargin:14,pager:false,controls:true,infiniteLoop:true,}); setTimeout(function(){ mysldnn.reloadSlider( {minSlides:1,hideControlOnEnd:true ,touchEnabled:true,maxSlides:4,slideWidth:183,moveSlides:1,slideMargin:14,pager:false,controls:true,infiniteLoop:true,} ); },2000); if(recoFlag == ” && relCount

    Source: bhaskar.com

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *