दुनिया

रक्षा मंत्री ने कहा- एशिया में जल्द नई मिसाइलें तैनात करना चाहते हैं, इससे चीन को आश्चर्य नहीं होना चाहिए

सिडनी.अमेरिका ने कहा कि वह एशिया में चीन के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए नई इंटरमीडिएट रेंज की मिसाइलों की तुरंत तैनाती करना चाहता है। शुक्रवार कोअमेरिकाइंटरमीडिएट रेंज न्यूक्लियर फोर्सेज (आईएनएफ) संधि से औपचारिक तौर पर बाहर आ गया। रक्षा मंत्री मार्क एस्परने मिसाइलों को लेकर शनिवार को कहा कि हमारी मिसाइलों से चीन को कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए। हालांकि, उन्होंनेयह नहीं बताया कि मिसाइलों की तैनाती कहां होगी। एस्पर एशिया के दौरे पर हैं।

उन्होंने सिडनी में कहा, “हम जितनी जल्दी हो सके अपनी मिसाइलें तैनात करना चाहते हैं। इस काम को इसी महीने प्राथमिकता देना चाहूंगा। चीन को हमारी योजना पर आश्चर्य नहीं होना चाहिए। क्योंकि हम पिछले कुछ समय से इस बारे में बात कर रहे हैं। मिसाइलें की तैनाती में 80 प्रतिशत हिस्सा आईएनएफ रेंज सिस्टम का है।”

1987 में हुई थीअमेरिका और सोवियत संघ के बीचसंधि

अमेरिका आईएनएफ ट्रिटी से शुक्रवार को औपचारिक तौर पर बाहर आ गया था। हालांकि उसने इस संधि से बाहर आने की घोषणा फरवरी में यह कहते हुए की थी कि रूस लंबे समय से इसके नियमों का उल्लंघन कर रहा है। इस संधि पर 1987 में अमेरिकी राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन और सोवियत संघ के नेता मिखाइल गोर्वाचोव ने हस्ताक्षर किए थे। यह दोनों देशों के परम्परागत और न्यूक्लियर मिसाइलों के इस्तेमाल को सीमित करता है। संधि से बाहर आने के बाद अमेरिका अब क्षेत्र में मिसाइल की तैनाती को लेकर स्वतंत्र हो गया है।

DBApp

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

मार्क एस्पर की फाइल फोटो

Source: bhaskar.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *