दुनिया

195 देशों में संक्रमण और 18,559 मौतें: न्यूयॉर्क के मेयर ने ट्रम्प से 15 हजार वेंटीलेटर्स मांगे; स्पेन में 13 फीसदी हेल्थ वर्कर पॉजिटिव

बीजिंग. दुनिया के सभी 195 देश कोरोनावायरस की चपेट में आ चुके हैं। इससे 18,559 लोगों की मौत हो चुकी है। 4 लाख 15 हजार 074 संक्रमित हैं। 1 लाख 8 हजार मरीज स्वस्थ भी हुए हैं। इटली की सबसे बड़ी हेल्थ एजेंसी ने कहा है कि देश में कोरोना संक्रमण के जो मामले सामने आए हैं, वास्तविक आंकड़ा इससे 10 गुना ज्यादा हो सकता है। जुलाई में होने वाले टोक्यो ओलिंपिक खेलों को एक साल के लिए स्थगित किया गया है। पाकिस्तान की पीएम इमरान ने कहा है कि उनके देश में कोरोना का असर कम है।

अमेरिका : जोए बिडेन बोले- ट्रम्प बोलना बंद करें, हेल्थ एक्सपर्ट्स की बात सुनें

पूर्व उप राष्ट्रपति और 2020 के प्रेसिडेंट इलेक्शन में डेमोक्रेटिक पार्टी के प्रत्याशी जोए बिडेन ने बुधवार को डोनाल्ड ट्रम्प को फटकार लगाई। कहा, “मेरा ट्रम्प को सुझाव है कि वो खुद बोलना अब बंद करें। अच्छा होगा वो देश के हेल्थ एक्सपर्ट्स की बात सुनें और उनकी सलाह पर अमल करें।” बिडेन की नाराजगी की वजह मंगलवार को ट्रम्प का बयान है। उन्होंने दावा किया था कोरोनावायरस दो हफ्ते में काबू हो जाएगा। बिडेन ने कहा- मैं ये नहीं कहता कि कोरोनावायरस के लिए ट्रम्प जिम्मेदार हैं। लेकिन, इतना जरूर है कि उन्होंने बहुत देर से कदम उठाए।

स्पेन : 13 फीसदी हेल्थ वर्कर संक्रमित
स्पेन की हेल्थ मिनिस्ट्री ने बुधवार को एक चौंकाने वाली जानकारी दी। उसके मुताबिक, “संक्रमितों की जांच और इलाज में लगे देश के 13 फीसदी हेल्थ वर्कर खुद संक्रमित हो चुके हैं। यह आंकड़ा बढ़ता जा रहा है और इससे हालात ज्यादा गंभीर हो सकते हैं।”

अमेरिका: सिर्फ न्यूयॉर्क में ही 15 हजार वेंटिलेटर्स की जरूरत
अमेरिका में कोरोना संक्रमण से हालात बिगड़ते जा रहे हैं। न्यूयॉर्क शहर के मेयर बिल डी ब्लासियो ने चौंकाने वाली जानकारी दी। ब्लासियो ने कहा, “हमारे सामने आने वाले दो हफ्ते गंभीर चुनौति पेश करेंगे। इस दौरान संक्रमण चरम पर पहुंचने की आशंका है। हमने अमेरिका सरकार से गुजारिश की है। हमें अगले कुछ दिन में ही 15 हजार वेंटिलेटर चाहिए।”

न्यूयॉर्क के एक शॉपिंग सेंटर के बाद सोमवार को कतार में लगे स्थानीय नागरिक।

पाकिस्तान : इमरान बोले- हमारे यहां असर कम है
पाकिस्तान में संक्रमितों का आंकड़ा करीब 1 हजार हो गया है। यह भारत से काफी ज्यादा है। जबकि पाकिस्तान आकार में भारत से बेहद छोटा है। इसके बावजूद प्रधानमंत्री इमरान खान अजीब तर्क दे रहे हैं। मंगलवार को इमरान ने कहा, “अमेरिका और इटली जैसे अमीर देश भी इस संकट से निपट नहीं पा रहे हैं। वो जितना पैसा इस बीमारी से निपटने पर खर्च कर रहे हैं, उतनी तो हमारा साल भर का टैक्स कलेक्शन है। लेकिन, पाकिस्तान में कोरोना का असर काफी कम है।” पाकिस्तान में 8 कोरोना संक्रमितों की मौत हो चुकी है।

मंगलवार को कराची की एक सुनसान सड़क से गुजरते मजदूर।

इटली : 10 गुना ज्यादा मरीज हो सकते हैं
इटली की सिविल प्रोटेक्शन एजेंसी को आशंका है कि देश में अब तक संक्रमण के जितने मामले सामने आए हैं, कुल मरीज इससे 10 गुना ज्यादा हो सकते हैं। एजेंसी ने यह जानकारी अमेरिकी टीवी चैनल सीएनएन को मंगलवार शाम दी। अब तक इटली में कुल 63,967 लोग संक्रमित पाए गए हैं। लेकिन, एजेंसी को आशंका है कि यह संख्या 6 लाख तक हो सकती है। प्रोटेक्शन एजेंसी के अफसर बोरोली ने कहा- हमें बहुत जल्द नए वेंटिलेटर्स और मास्क खरीदने होंगे। लेकिन, ताजा हालात में यह भी मुश्किल काम है। इसकी वजह यह है कि दुनिया का हर देश इन चीजों का स्टॉक अपने पास रखना चाहता है।

वुहान की एक लोकल ट्रेन को सैनिटाइज करते हेल्थ वर्कर।

जापान : एक साल टले ओलिंपिक

जापान की न्यूज एजेंसी एनएचके के मुताबिक, ओलिंपिक एक साल के लिए स्थगित कर दिया गया है। कनाडा, ऑस्ट्रेलिया के बाद न्यूजीलैंड ने भी साफ कर दिया था कि उसके एथलीट्स टोक्यो ओलिंपिक में हिस्सा नहीं लेंगे।

स्पेन के एक अस्पताल में मरीजों की जांच रिपोर्ट देखते डॉक्टर।

पाकिस्तान : इमरान सरकार लापरवाह
जियो न्यूज के मुताबिक, पाकिस्तान में कोरोना संक्रमितों की संख्या 900 के पार हो चुकी है। एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 7 मौतों के बावजूद पाकिस्तान सरकार के पास महामारी से निपटने की कोई तैयारी नहीं है। यहां के अस्पतालों में जांच किट तक नहीं हैं। सिर्फ रसूखदारों के लिए कुछ सुविधाएं रखी गई हैं। आम अवाम को स्कूलों में बने कमरो में पलंग लगाकर ठहरा दिया गया है। इनके पास मास्क और सैनिटाइजर जैसी जरूरी चीजें तक नहीं हैं। सेना को सड़कों पर उतार दिया गया है। इससे आम लोगों में नाराजगी है। कुछ लोगों ने कराची में सेना के आदेशों को नहीं माना और वो सड़कों पर उतर आए।

पाकिस्तान के लाहौर में मास्क लगाए एक महिला।

चीन : राहत भरी खबर

चीन सबसे ज्यादा प्रभावित हुबेई प्रांत समेत वुहान से यात्रा प्रतिबंध हटाएगा। चीन के अधिकारी वुहान में लगभग दो महीनों से चल रहे लॉकडाउन को 8 अप्रैल को हटा देंगे। हुबेई प्रांत के स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने वुहान समेत पूरे राज्य में आवाजाही पर प्रतिबंध को आसान बनाने का फैसला किया है। 23 जनवरी को पूरे शहर को लॉकडाउन कर दिया गया था। चीन केप्रशासन ने यह फैसला संक्रमण के मामलों में आई कमी को देखते हुए लिया है। छह दिनों में यहां केवल एक मामला सामने आया है।हालांकि, सोमवार को वुहान मेंसात लोगों की मौत हुई थी। यहांअब तक 3277 लोगों की मौत हुई है, जबकि 81,171 संक्रमित हुए हैं।

स्पेन में रविवार को कोरोना संक्रमण से मारे गए व्यक्ति को श्रद्धांजलि देने जाते परिजन।

चार दिन में संक्रमण का आंकड़ा 2 से 3 लाख हुआ: डब्ल्यूएचओ

विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस गेब्रियिसोस ने सोमवार को कहाकि कोरोनावायरस महामारी तेजी से बढ़ रहा है। हालांकि, हम इसकी ट्रैजेक्टरी को बदल सकते हैं। उन्होंने कहा कि इसके पहले मामले से एक लाख तक पहुंचने में 67 दिन का समय लगा है। दो लाख पहुंचने में 11 दिन और दोसे तीन लाख पहुंचने में केवल चार दिन का समय लगा है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस गैब्रेयेसिस।

चीन में अब तक3277 लोगों की मौत
न्यूज एजेंसी के मुताबिक, चीन सबसे ज्यादा प्रभावित हुबेई प्रांत समेत वुहान से यात्रा प्रतिबंध हटाएगा। जनवरी में कोरोनावायरस की वजह से वुहान को लॉकडाउन कर दिया गया था। पिछले छह दिनों में यहां केवल एक नया मामला सामने आया। पांच दिनों तक यहां कोई केस सामने नहीं आया था। सरकार अब यहां लॉकडाउन प्रतिबंधों में ठील देने पर विचार कर रही है। हालांकि, सोमवार को वुहान मेंसात लोगों की मौत हुई थी। यहांअब तक 3277 लोगों की मौत हुई है, जबकि 81,171 संक्रमित हुए हैं।

इटली का लोंबार्डी सबसे ज्यादा प्रभावित
इटली के नागरिक सुरक्षा विभाग के प्रमुख एंजेलो बोरेली ने सोमवार को बताया कियहां एक दिन में संक्रमण के 3780 नए मामले सामने आए हैं। इटली का लोम्बार्डीप्रांत सबसे ज्यादा प्रभावित है। इटली पूरी तरह से लॉकडाउन है। देश के करीब 6 करोड़ लोग अपने घरों में कैद हैं।इटली में सोमवार को 601लोगों की जान गई है। इटली यूरोप का सबसे ज्यादा प्रभावित देश है।

इटली से जर्मनी (हाले एयरपोर्ट) लाया गया कोरोना का एक मरीज।

अमेरिका के 16 राज्यों ने घर रहने का आदेश जारी किया
अमेरिका के कम से कम 16 राज्यों ने अपने नागरिकों को घर में रहने का आदेश जारी किया है। देश के करीब 9.6 करोड़ लोग अपने घरों में हैं। देश की जनसंख्या का 29% लोगों पर प्रतिबंध लगाया गया है। लेकिन, अभी तक यह आदेश लागू नहीं हो पाए हैं। अगर, 16 राज्यों में यह आदेश लागू हो जाते हैं तो करीब 14.2 करोड़ यानी 43% नागरिक घरों में कैद हो जाएंगे।

कैलिफोर्निया के सांता मोनिका में खाली समुद्र तट।

मेलानिया ट्रम्प की भी कोरोना की जांच की गई

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने सोमवार को कहा कि फर्स्ट लेडी मेलानिया ट्रम्प ने भी कोरोनावायरस कीजांच करवाया। उनकी रिपोर्ट निगेटिव है। पहली बार ट्रम्प ने पत्नी की जांच की पुष्टि की है। ट्रम्प, उपराष्ट्रपति माइक पेंस और सेकंड लेडी कैरेन पेंस की भी जांच की गई। सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई है। वहीं,ट्रम्प ने सोमवार को कहा कि एंटीमैरेलियल ड्रग्स कोरोनावायरस के इलाज के लिए भगवान का गिफ्ट हो सकता है। वैज्ञानिक इसकी जांच कर रहे हैं। हालांकि, वैज्ञानिकों ने इसके असुरक्षित दावों से होने वाले खतरे को लेकर चेतावनी दी है। अमेरिका में संक्रमण के अब तक 43,734 मामले हो चुके हैं। 553 लोगों की मौत हो चुकी है। एक दिन में 140 लोगों की मौत हुई है।

अमेरिका की फर्स्ट लेडी मेलानिया ट्रम्प की रिपोर्ट निगेटिव आई है।

ब्रिटेन में कोरोना से अब तक 335 लोगों की मौत

ब्रिटेन में कोरोनावायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 335 हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना के 967 नए मामले सामने आए हैं। इसके बाद देश में कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 6,650 हो गई है। ब्रिटेन में अब तक 83,945 लोगों की जांच की जा चुकी है। इसमें से 77,295 लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है, जबकि 6650 लोग इससे संक्रमित पाए गए हैं।

लंदन में टावर ब्रिज के पास मास्क पहनकर घूम रहे लोग।

म्यांमार में कोरोना के दो मामलों की पुष्टि

वैश्विक महामारी कोरोनावायरस के प्रकोप से भारत का पड़ोसी देश म्यांमार भी अछूता नहीं है। यहां पहली बार संक्रमण के दो मामले सामने आए हैं। म्यांमार टाइम्स ने स्वास्थ्य मंत्रालय के हवाले से अपनी रिपोर्ट में बताया कि म्यांमार का एक 26 साल का युवक कोरोना से संक्रमित पाया गया है जो हाल ही में ब्रिटेन की यात्रा करके लौटा था। इसके अलावा एक 36 साल के व्यक्ति की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके पास अमेरिका का ग्रीन कार्ड भी है। दो मामलों की पुष्टि होने के बाद इनके नमूनों को थाईलैंड में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की मान्यता प्राप्त प्रयोगशाला में दोबारा जांच के लिए भेजा गया है।

कोरोनावायरस के डर के बीच सुपर मार्ट में खरीदारी करते लोग।

ये भी पढ़ें

चीन, अमेरिका और यूरोप की रिपोर्ट्स बताती हैं कि संक्रमण के 5 से 10% मामले ही गंभीर होते हैं; अब तक 29% लोग ठीक हो चुके हैं

लोगों ने पहले चेतावनी को नजरअंदाज किया, फिर आवाजाही ने कोरोना को बढ़ाया

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

पाकिस्तान के शहर लाहौर में मंगलवार को सड़क पर मास्क बेचता शख्स।
इटली में लॉकडाउन के बाद बोल्गना शहर में सूनसान सड़क।
कोरोना से निपटने के लिए रावलपिंडी में तैनात सैनिक।
वुहान के डोंगफेंग में होंडा प्लांट में लंच करते कर्मचारी। यहां दो महीने के बाद लॉकडाउन खत्म होगा।
मैक्सिको में हाथ साफ करता एक व्यक्ति। यहां संक्रमण के 367 मामले सामने आए हैं।

Source: bhaskar.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *