अंतरराष्ट्रीय

हाईस्कूल में इतने नंबर्स ले आई लड़की, एकसाथ 55 कॉलेज एडमिशन देने के लिए हो गए तैयार, 9 करोड़ की स्कॉलरशिप भी देंगे

वॉशिंगटन. अमेरिका के जॉर्जिया प्रांत में रहने वाली एक लड़की ने पूरे देश को हैरान करके रख दिया है। इस लड़की को एक-दो नहीं बल्कि पूरे 55 कॉलेज एडमिशन देना चाहते हैं। इस स्टूडेंट ने देशभर के 65 कॉलेजों में एडमिशन के लिए अप्लाई किया था। इनमें से 55 कॉलेज इसके लिए तैयार भी हो गए। खास बात ये है कि इन कॉलेजों ने लड़की को 9 करोड़ रुपए की स्कॉलरशिप देने का ऐलान भी किया है। हाईस्कूल में 97% नंबर लाने वाली ये लड़की अपनी सफलता का क्रेडिट अपनी मां को देती है। उसका कहना है कि मेरी मां की दी सलाह मेरे बेहद काम आई।

कई बड़े कॉलेज से आया एडमिशन का बुलावा…

– ये स्टोरी जॉर्जिया के अगस्ता शहर में रहने वाली जेकेलिया बेकर (17) नाम की लड़की की है। जिसने इसी साल हाईस्कूल की परीक्षा पास की है। उसे परीक्षा में 4.1 ग्रेड (करीब 97% अंक) मिले हैं। वो अगस्ता के लूसी सी लैने हाईस्कूल में पढ़ती है।
– जब उसने कॉलेज में एडमिशन के लिए अप्लाई किया तो 65 में से 55 कॉलेज एडमिशन देने के लिए राजी हो गए। हालांकि कॉलेजों ने इसके पीछे की कोई खास वजह तो नहीं बताई। सिर्फ इतना कहा है कि उन्होंने नियमों के मुताबिक दाखिले की प्रक्रिया पूरी की है।
– आमतौर पर लोग इतने ज्यादा कॉलेजों में एडमिशन के लिए आवेदन नहीं करते हैं, लेकिन जेकेलिया ने ज्यादा से ज्यादा कॉलेजों में आवेदन किया और वो एडमिशन देने वाले कॉलेजों की कसौटी पर खरी भी उतरी। जिसके बाद एडमिशन का अनोखा रिकॉर्ड बन गया।
– जेकेलिया को दाखिला देने वालों में पेंसिलवेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी, यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन और यूनिवर्सिटी ऑफ ओकलाहोमा जैसी बड़ी संस्थाएं भी शामिल हैं।

मां ने कहा था, होमवर्क करो, पढ़ाई आसान होगी

– जेकेलिया के मुताबिक, ‘मैं शुरुआत में पढ़ाई में तेज नहीं थी। लेकिन मां ने मेरी मेहनत को सही दिशा दी। उन्होंने मुझसे कहा कि होमवर्क करोगी तो स्कूल में पढ़ाई आसान हो जाएगी।’ लड़की ने कहा, ‘मुझे इतनी बड़ी सफलता की उम्मीद नहीं थी। मां ने 65 कॉलेजों में आवेदन करने की सलाह दी। उन्होंने ही कॉलेजों के नाम सुझाए।’
– जेकेलिया की मां डेनिस बेकर सेना की नौकरी कर चुकी हैं। वो कहती हैं, ‘ये सब मेरी बेटी की मेहनत से हुआ है।’ वहीं उसकी टीचर बिल डनबर ने कहा, ‘यदि क्लास में जेकेलिया जैसी स्टूडेंट है, तो समझिए कि आप खुशकिस्मत हैं।’
– पढ़ाई के अलावा जेकेलिया वॉलीबॉल, बास्केट बॉल, गोल्फ, टेनिस और फुटबॉल भी खेलती हैं। वो मार्चिंग बैंड और स्टूडेंट यूनियन की मेंबर भी है। उसकी सफलता इसलिए भी खास है क्योंकि अमेरिका में कॉलेज दाखिले में रिश्वतखोरी के 15 मामले सामने आए हैं। अभिभावकों का कहना है कि ऐसे मामलों के कारण जेकेलिया जैसे आर्थिक तौर पर कमजोर स्टूडेंट्स को एडमिशन नहीं मिल पाता।

Source: bhaskar.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *