दुनिया

ब्रिटेन में चोरों ने उड़ाई भारतीय मूल के लोगों की नींद, पांच साल में चोरी कर लिया एक हजार करोड़ से ज्यादा का सोना

लंदन. ब्रिटेन में रहने वाले भारतीय मूल के लोगों की नींद पिछले कुछ सालों से उड़ी हुई है क्योंकि वहां के चोरों के निशाने पर भारतीय परिवार ही हैं। पुलिस द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक साल 2013 से 2018 के बीच पिछले 5 सालों के दौरान करीब 28,000 चोरी के मामले दर्ज हुए। इनमें पीड़ित ज्यादातर भारतीय मूल के थे। इस दौरान उनका करीब 1,300 करोड़ रुपए का सोना चोरी चला गया। पुलिस के मुताबिक भारतीय लोग सोना ज्यादा खरीदते हैं और उसे घर पर ही रखते हैं इसलिए चोर भारतीयों को निशाना बना रहे हैं।

– ब्रिटिश पुलिस (स्कॉटलैंड यार्ड) के आंकड़ों के मुताबिक सबसे ज्यादा चोरियां ग्रेटर लंदन (958 करोड़ रु.) में हुईं, इसके बाद ग्रेटर मैनचेस्टर (871 करोड़ रु.) का नंबर आता है। पुलिस के अनुसार साल 2017-18 के बीच 192 करोड़ रुपए की 3,300 चोरियां हुईं। केन्ट पुलिस ने इस दौरान 145 करोड़ रुपए की 89 चोरी और ग्रेटर मैनचैस्टर पुलिस ने 136 करोड़ रुपए की 238 चोरियों के मामले दर्ज किए।
– जांच करने वाले पुलिसकर्मियों का कहा है कि कुछ पीड़ितों के पास से बड़ी मात्रा में सोने आभूषण मिले थे। चेशायर पुलिस ने एशियाई लोगों के घर सोने संबंधी चोरियां बढ़ने के बाद विशेष दस्ते का गठन किया।
– इस बारे में क्राइम ब्रांच प्रमुख एरॉन डुग्गन का कहना है कि सोना इसलिए चोरों की पसंद बना हुआ है, क्योंकि सोने का निपटारा आसानी से हो जाता है और उन्हें तुरंत इसके बदले में पैसा भी मिल जाता है।
– पुलिस हर साल दिवाली, नवरात्रि और बड़े त्योहारों के मौकों पर ब्रिटेन में रहने वाले भारतीयों को अलर्ट करती है। 2018 में दिवाली से पहले मेट्रोपोलिटन पुलिस डिटेक्टव लीसा ने भी भारतीय परिवारों से अलर्ट रहने की अपील करते हुए कहा था, ‘आसानी से निपटारा होने की वजह से सोना चोरों की पहली पसंद बना हुआ है। कृपया भारतीय परिवार सतर्क रहें।’

सोना घर पर ही रखते हैं, इसलिए चोरी के लिए भारतीय ही पसंद

– पश्चिमी लंदन के साउथहॉल में एशियाई सोने के कारोबारी संजय कुमार का कहना है कि भारतीय अपनी बचत का निवेश सोने में भी करते हैं। इसका सांस्कृतिक महत्व भी है। लोगों को उनके अभिभावकों द्वारा कहा जाता है कि सोना जरूर खरीदना चाहिए क्योंकि यह एक निवेश है और यह शुभ होता है। हम एशियाई लोग इस परम्परा और संस्कृति का पालन करते हैं। चोरों को भी यह अच्छी तरह समझ में आ चुका है। इसलिए उनके निशाने पर बड़ी संख्या में भारतीय मूल के परिवार ही होते हैं।

Source: bhaskar.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *