टेक्नोलॉजी

आईफोन के फेस ID फीचर में है बग, चश्मा और काला टेप दिखाकर कर सकते हैं अनलॉक

गैजेट डेस्क. एपल डिवाइसेज के फेस आईडी फीचर को सबसे सुरक्षित माना जाता है, लेकिन एक रिसर्च के मुताबिक फेस आईडी फीचर को धोखा दिया जा सकता है। दरअसल, चीन की रिसर्च कंपनी टेनसेंट के रिसर्चर्स ने ब्लैक हेट सिक्योरिटी कॉन्फ्रेंस के दौरान एपल के फेस आईडी फीचर के बग के बारे में बताया। टीम के मुताबिक ग्लास और टेप की मदद से एपल फेस आईडी को आसानी से धोखा दिया जा सकता है।

    1. रिपोर्ट के मुताबिक फेस आईडी में मौजूद बग की मदद से डिवाइस अनलॉक करने के लिए रिसर्चर्स ने ‘लाइवनेस’ नाम के ऑथेंटिकेशन फीचर को बाइपास किया। ये फीचर आईफोन की फेसआईडी को समझाता है कि यूजर का चेहरा असली है या नकली। लाइवनेस फीचर बैकग्राउंड नॉइस, रिस्पॉन्स डिस्टॉर्शन और फोकस ब्लर को भी समझता है। ये यूजर की आंखों को भी स्कैन करता है। यदि किसी यूजर ने चश्मा लगा रखा है तब आंखों को स्कैन करने की प्रोसेस में बदलाव आ जाता है।

      दरअसल, एपल डिवाइस अनलॉक होने के लिए यूजर के फेस का डेटा कैप्चर करता है। ऐसे में यदि किसी यूजर ने गॉगल पहना हुआ है, तब वो आंख और उसके आसपास की 3D डिटेल का डेटा नहीं जुटा पाता। इसी बग के चलते चश्मा और काला टेप से फेस आईडी को धोखा दिया जा सकता है। इसके लिए बस चश्मे के अंदर वाले हिस्से पर काला टेप लगाना है, जिसके बाद विक्टिम को पहनाकर आईफोन को अनलॉक किया जा सकता है।

    2. रिपोर्ट के मुताबिक किसी आईफोन यूजर को बेहोश करके इस तरीके से उसके फोन को अनलॉक किया जा सकता है, जिसके बाद फोन का एक्सेस मिल जाएगा। भले ही सुनन में आईफोन को अनलॉक करना आसान नजर आ रहा हो, लेकिन वास्तिविकता में इतना आसान नहीं है। इस बग को लेकर एपल की तरफ से कोई बयान नहीं आया है।
    3. आईफोन में मिलने वाले फेस ID फीचर को 15 हजार इंजीनियर्स ने 6 साल की मेहनत के बाद तैयार किया है। ये फीचर रियल टाइम में 50 मसल्स को रेकग्ननाइज करता है। चेहरे की कम से कम 25 मसल्स रेकग्ननाइज होंगी, तभी फोन अनलॉक होता है। ये इतना सिक्योर है कि किसी यूजर का जुड़वां भाई भी फोन को अनलॉक नहीं कर सकता। पूरी तरह अंधेरा होने पर भी यूजर के फेस को रेकग्ननाइज करता है।
Apple FaceID by Putting Taped Glasses on Unconscious People

Source: bhaskar.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *